logo

पीएफखाताधारकों की तो लग गई! ब्याज दर्रों में हुई बढ़ोतरी, जानिए कितना होगा फायदा


सीबीटी के निर्णय के बाद ईपीएफ पर ब्याज दर को फाइनेंशियल डिपार्टमेंट को सहमति के लिए भेजा जाएगा। सरकारी अप्रूवल के बाद, छह करोड़ से अधिक ईपीएफओ सदस्यों के खाते में ब्याज जमा होगा।
 
ि

Haryana Update, New Delhi:  EPFO ने फाइनेंशियल वर्ष 2023 से 2024 के लिए EPFO पर ब्याज दर 8.25% निर्धारित की है। ये पिछले तीन वर्षों में सबसे अधिक ब्याज दर है। ईपीएफओ ने पिछले मार्च में ब्याज दरों को बढ़ाकर 8.15% कर दिया था।

2021–2022 में ये 8.1% थे। मार्च 2022 में EPFO ने फाइनेंशियल ईयर की ब्याज दरों को 8.10 प्रतिशत कम कर दिया। 1977 से 1978 के बाद में यह सबसे कम था। उस समय पीएफ पर 8% ब्याज दर थी।

ब्याज दर 8.25% बढ़ाई गई

शनिवार 10 फरवरी को ईपीएफओ की बैठक में, सीबीटी ने फाइनेंशियल ईयर 2023 से 2024 के लिए 8.25% का ब्याज देने का फैसला किया है। पीटीआई ने बताया कि सीबीटी ने ईपीएफ पर 8.25% की ब्याज दर देन निर्धारित की है।

ब्याज दर 8.875 प्रतिशत थी

मार्च में ईपीएफओ पर ब्याज दरें घटाकर 8.15% कर दी गईं। 2018 से 2019 में 8.65% था। ईपीएफओ की ब्याज दरें पिछले कुछ वर्षों में गिर गई हैं।

2016 से 2017 में 8.75 प्रतिशत, 2017 से 2018 में 8.55 प्रतिशत और 2015 से 2016 में थोड़ा कम 8.8 प्रतिशत था। 2011 से 2012 में पीएफ पर ब्याज दर 8.5% थी।