logo

Ratan Tata का नया कदम, 165 करोड़ में कुत्तों का हॉस्पिटल खोला, जानिए खासियतें

Ratan Tata News : रतन टाटा ने एक बार फिर कुत्तों के प्रति अपना प्यार जताया है। उन्होंने मुंबई में एक डॉग हॉस्पिटल बनाने का निर्णय लिया है, जिसका उद्घाटन अगले महीने हो सकता है। यह परियोजना रतन टाटा का सपना था।
 
 
Haryana Update

Haryana Update, Ratan Tata : रतन टाटा देश के सबसे प्रसिद्ध उद्यमियों में से हैं। उनकी सेवाभावना उनकी लोकप्रियता का एक बड़ा कारण है। टाटा समूह दान देता है। रतन टाटा को कुत्तों से बहुत प्यार है। वह और उनके छोटे भाई नवल टाटा, एक बहुत पुरानी फोटो में एक कुत्ते को गोद में लिए बैठे हुए दिखते हैं। यही नहीं, टाटा ग्रुप के मुंबई स्थित बॉम्बे हाउस में कुत्तों के लिए खास जगह है। आवारा कुत्तों को यहां छुपने और रहने की जगह मिलती है।

रतन टाटा ने अपने डॉग प्रेम को बढ़ावा देते हुए अब एक और उत्कृष्ट काम किया है। डॉग हॉस्पिटल बनाना उनका सपना था, जो अब पूरा हो चुका है। वह देश भर में डॉग हॉस्पिटल्स बनाना चाहते हैं, जिनमें मुंबई पहली है। 165 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित डॉग हॉस्पिटल अगले महीने खुल सकता है।

क्या कहा टाटा ने?
रतन टाटा ने कहा कि डॉग एक परिवार का हिस्सा है। “मैं जीवन भर कई पेट्स रखे हैं और मुझे इस हॉस्पिटल की अहमियत पता है,” उन्होंने कहा।उन्होंने एक पुरानी घटना याद करते हुए कहा कि वे एक बार मिनिसोटा विश्वविद्यालय में एक कुत्ते को ले जाना पड़ा था क्योंकि उसे जॉइंट रिप्लेसमेंट की जरूरत थी, लेकिन वह समय पर नहीं पहुंच सका, इसलिए कुत्ते का जॉइंट फिक्स करना पड़ा। “इस घटना ने मुझे दिखाया कि एक वर्ल्ड क्लास वेटनेरी हॉस्पिटल क्या कर सकता है,” उन्होंने कहा।”

हॉस्पिटल के बारे में
इस अस्पताल को बनाने में 165 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। यह पांच मंजिला इमारत एक समय पर 200 पालतू जानवरों का इलाज कर सकती है। यहां ब्रिटिश डॉक्टर थॉमस हीथकोट पूरी टीम का नेतृत्व करेंगे। इसके लिए वह मुंबई चले गए हैं। यह हॉस्पिटल पहले नवी मुंबई में बनाना था, लेकिन रतन टाटा ने इसे मुंबई के पास बनाने के लिए कहा. इससे जमीन खोजने और सारी कागजी प्रक्रियाओं को पूरा करने में कुछ अधिक समय लग गया। लेकिन यह अस्पताल अब पूरी तरह से तैयार है।

Ratan Tata: रतन टाटा को मारने की दी सुपारी, फिर भी खतरनाक गैंगस्‍टर से नहीं डरे, खड़ी करदी 25 लाख करोड़ की कंपनी