logo

Breaking News: हाई कोर्ट ने लिया है बड़ा फैसला, जाने किस स्थिति में पति-पत्नी नहीं मांग सकते भत्ता

Latest High Court Decision News: उच्च न्यायालय ने अपने एक महत्वपूर्ण फैसले में स्पष्ट रूप से कहा है कि जो पति/पत्नी अपने पति के साथ नहीं रहने का विकल्प चुनती है, वह वित्तीय सहायता की हकदार नहीं होगी। इस महत्वपूर्ण घटनाक्रम के आलोक में, हम आपको इस महत्वपूर्ण फैसले की जटिलताओं को समझने के लिए आमंत्रित करते हैं जैसा कि निम्नलिखित समाचार लेख में बताया गया है।
 
हाई कोर्ट ने लिया है बड़ा फैसला, जाने किस स्थिति में पति-पत्नी नहीं मांग सकते भत्ता

Haryana Update: एक महत्वपूर्ण फैसले में, फैमिली कोर्ट के सम्मानित मुख्य न्यायाधीश, केएन सिंह ने स्पष्ट रूप से स्थापित किया कि एक पत्नी जो अपने पति के साथ सहवास करने से इनकार करती है, वह वित्तीय सहायता के अपने अधिकार से वंचित हो जाती है। जबलपुर के प्रतिष्ठित निवासी सचिन की ओर से कानूनी विशेषज्ञ जीएस ठाकुर और अरुण कुमार भगत ने शानदार पैरवी की। उनके ठोस तर्क में कहा गया कि 15 दिसंबर, 2020 तक सचिन की पत्नी ने अपने वैवाहिक घर के बजाय अपने मायके में रहना पसंद किया।

 

Latest News: Chanakya Niti : इन कामो में पुरुष महिलाओं की नहीं कर सकते बराबरी

प्रतिष्ठित हिंदू विवाह अधिनियम की धारा 9 के तहत उसके खिलाफ शुरू की गई कानूनी कार्यवाही के बारे में सूचित किए जाने के बावजूद, पत्नी ने आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 125 के तहत मामला दायर किया, जिससे उसे वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए मजबूर होना पड़ा। घटनाओं के इस दुर्भाग्यपूर्ण मोड़ के साथ, 26 नवंबर, 2020 को प्रतिष्ठित आधारताल पुलिस स्टेशन में दहेज उत्पीड़न का एक चिंताजनक मामला भी दर्ज किया गया।

इसके अलावा, कुल 12 लाख रुपये की बड़ी राशि के अनादरण के संबंध में शिकायत दर्ज की गई थी। विशेष रूप से, पत्नी ने स्पष्ट रूप से अपने जीवनसाथी के साथ संबंध तोड़ने की इच्छा व्यक्त करते हुए अपनी कानूनी गवाही में स्पष्ट रूप से ऐसा कहा है। उपरोक्त सम्मोहक बिंदुओं के अनुरूप और स्थापित कानूनी मिसालों के महत्व को मजबूत करते हुए, माननीय अदालत ने वित्तीय सहायता के लिए पत्नी की याचिका को विवेकपूर्ण ढंग से खारिज कर दिया।