logo

रेल से पार्सल भेजने के बदले नियम, अब सामान भेजने के लिए कितना खर्च होगा

Hindi Railways: हम कभी-कभी ट्रेन से दूसरे शहर जाना भी पड़ता है। ऐसे में आप ट्रेन से कोई भी सामान आसानी से स्थानांतरित कर सकते हैं। लेकिन आपको बता दें कि रेल से पार्सल भेजने के नियमों में बदलाव हुए हैं..।
 
 
रेल से पार्सल भेजने के बदले नियम, अब सामान भेजने के लिए कितना खर्च होगा

Haryana Update: दुनिया का चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क भारतीय रेलवे है। हर दिन लाखों लोग अपने लक्ष्य पर पहुंचते हैं। हम कभी-कभी ट्रेन से दूसरे शहर जाना भी पड़ता है। ऐसे में आप ट्रेन से कोई भी सामान आसानी से स्थानांतरित कर सकते हैं।

वैसे भी मालभाड़े से रेलवे कमाई करता है। रेलवे हर दिन माल गाड़ी और अन्य पार्सल ट्रेनों से माल ढुलाई करता है। भारतीय रेलवे में आप किसी भी सामान को दो तरीकों से भेज सकते हैं।

पहला, आप इसे पार्सल या लगेज के रूप में भेज सकते हैं। लगेज का अर्थ है कि आप अपने सामान को सफर के दौरान ले जा रहे हैं। वहीं, आप इसे पार्सल में ले जा सकते हैं। पार्सल का मतलब है कि आप अपने सामान के साथ नहीं जा रहे हैं। बल्कि किसी स्थान पर उसे भेज रहे हैं।

क्या किराया मूल्य है?
रेलवे से सामान भेजने पर किराया वजन और दूरी पर निर्भर करता है। लगेज की तुलना में पार्सल सस्ता है। वेबसाइट पर किलोमीटर और पार्सल के वजन के हिसाब से किराये की दर के साथ रेलवे चार्ट उपलब्ध हैं। मान लीजिए आप 25 किलो वजन की एक ट्रेन को पटना से दिल्ली ले जाना चाहते हैं, तो आपको 320 रुपये का किराया देना होगा।

हरियाणा में फैमिली आईडी नियमों में एक बार फिर हुआ अहम बदलाव
वास्तव में, रेलवे पार्सल चार्ट के अनुसार, 1051 से 1075 किलोमीटर की दूरी पर 50 किलो वजनी पार्सल किराया 320.16 रुपये है। वहीं, 1 क्विंटल से अधिक माल पर 533 रुपये पार्सल चार्ज लगेगा। रेलवे पार्सल काउंटर आपको जानकारी देगा कि इसमें अतिरिक्त शुल्क लगाए जा सकते हैं।

रेलवे पार्सल बुकिंग कैसे होती है?

पार्सल ट्रेन से ऑनलाइन या ऑफलाइन बुक किया जा सकता है। Indian Railway व्यक्तिगत और व्यावसायिक पार्सल सर्विस प्रदान करता है। आप ट्रेन से बाइक या घरेलू उपकरणों का भारी सामान बुक कर सकते हैं। रेलवे स्टेशन पर पार्सल काउंटर या https://parcel.indianrail.gov.in पर जाकर बुकिंग कर सकते हैं।