logo

FASTags Close: वाहन चालकों को बड़ी राहत, अब टोल प्लाजा पर रुकने की जरूरत नहीं, फास्टैग होगा Close

FASTags Close: आपको बता दें, की यह प्रणाली अधिक कुशल होगी और टोल प्लाजा पर लंबी कतारों को कम करेगा। यह भी अधिक आरामदायक होगा क्योंकि वाहनों को रुकने की जरूरत नहीं होगी, जानिए पूरी डिटेल। 

 
FASTags Close

Haryana Update: आपकी जानकारी के लिए बता दें, की भारत सरकार ने राष्ट्रीय राजमार्गों पर FASTags की जगह GPS-आधारित टोल संग्रह प्रणाली को अपनाया है। यह बदलाव अप्रैल 2024 में हो सकता है, 2024 के लोकसभा चुनावों से पहले। नई प्रणाली से टोल वसूली अधिक कुशल और सुविधाजनक होगी क्योंकि वाहनों को टोल प्लाजा पर रुकने की जरूरत नहीं होगी।

ये प्रणाली इस तरह काम करेगी
इस सिस्टम में स्वचालित नंबर प्लेट पहचान (ANPR) प्रणाली होगी। राजमार्गों पर लगाए गए कैमरे प्रत्येक वाहन की नंबर प्लेट को स्कैन करेंगे और उन्हें एक डेटाबेस में जोड़ेंगे। वाहन के मालिक के बैंक खाते से यह डेटाबेस जुड़ा होगा। टोल शुल्क वाहन की दूरी के आधार पर स्वचालित रूप से बैंक खाते से काट लिया जाएगा।

GPS-आधारित टोल संग्रह प्रणाली FASTags से कई मायनों में बेहतर होगी
FASTags से GPS-आधारित टोल संग्रह प्रणाली कई मायनों में बेहतर होगी। यह प्रणाली अधिक कुशल होगी और टोल प्लाजा पर लंबी कतारों को कम करेगा। यह भी अधिक आरामदायक होगा क्योंकि वाहनों को रुकने की जरूरत नहीं होगी। यह प्रणाली भी अधिक पारदर्शी होगी और टोल चोरी को कम करेगी।

GPS-आधारित टोल संग्रह सिस्टम के कुछ लाभ
टोल प्लाजा को हटाकर टोल वसूली को बेहतर बनाना
वाहनों को रुकने की जरूरत को दूर करके यात्रा के समय को कम करना
टोल चोरी को कम करना।
टोल वसूली व्यवस्था में अधिक पारदर्शिता लाना।

भारत में GPS-आधारित टोल संग्रह प्रणाली से टोल वसूली का एक नया युग शुरू होगा
भारत में GPS-आधारित टोल संग्रह प्रणाली से टोल वसुली का एक नया युग शुरू होगा। यह सिस्टम अधिक सक्षम, आसान और पारदर्शी होगा। यह प्रणाली टोल प्लाजा को हटा देगी, जिससे यात्रा का समय कम होगा और टोल चोरी को रोका जा सकेगा।

Fastag News: नितिन गडकरी ने दी जानकारी, फास्टैग हुआ बंद, अब ऐसे कटेगा टोल टैक्स!