logo

Breaking News: हरियाणा में PWD डिपार्टमेंट के SDO हुए निलंबित, 2 ग्राम सचिव पर भी आए आरोप,

Haryana PWD Department News:हरियाणा के पीडब्ल्यूडी विभाग के एसडीओ नरेंद्र यादव को लंबित कर दिया गया है, मीडिया सूत्रों से पता चला है कि 2024 विधानसभा चुनाव के पहले हरियाणा के कैबिनेट मंत्री कमरपाल गुर्जर इन जन्माष्टमी आजकल एक्शन में चल रहे हैं प्रसाद ही पीडब्ल्यूडी डिपार्टमेंट के एसडीओ नरेंद्र यादव को जन संवाद कार्यक्रम में न जाना पड़ गया महंगा पड़ गया क्योंकि उन्हें निलंबित कर दिया गया है,
 
Breaking News: हरियाणा में PWD डिपार्टमेंट के SDO हुए निलंबित, 2 ग्राम सचिव पर भी आए आरोप,

Haryana Update: मोबाइल फोन पर ऑनलाइन लूडो गेम और इंस्टाग्राम (इंस्टाग्राम) के जरिए फ्रेंड्स से मीटिंग के लिए बिना किसी नामी गिरामी चंडीगढ़ तक पहुंचें। वह चंडीगढ़ बस अड्डे पर ही रात गया था और अमृतसर से आगे जाना चाहता था लेकिन उसके पास कोई दुकान नहीं थी।

जिस डिपो की बस में वह चंडीगढ़ गया था, वहां उसके परिचालक अलेवा निवासी अनिल ने पूछा कि कहां है। असंगठित स्कूल के कपड़े और स्कूल बैग देखने के लिए चालक-चालक, तकनीशियन को घुमाया गया और आराम से पूछताछ की गई।

इलेक्ट्रानिक ने बताया कि वह अमृतसर जाना है। उसने एल्बम से मोबाइल नंबर पूछा तो उसने नहीं बताया। इसके बाद अमृतसर के एक दोस्त से मिलने जा रही थी, उसका नंबर बताया और चालक अनिल ने जब उस युवक के पास फोन किया तो युवक ने गोलमोल बातें करना शुरू कर दिया।

युवक ने फोन पर इलेक्ट्रॉनिक्स को भी डकैती से मना कर दिया। के दोस्त परिवर्तनशील को देखने वाले ने रोना शुरू कर दिया। इलेक्ट्रानिक ने पूछताछ में बताया कि उसकी युवाओं से दोस्ती ऑनलाइन लूडो गेम प्रतियोगिता 5-6 महीने पहले हुई थी।

इसके बाद सिद्धांत (इंस्टाग्राम) पर बातें करना शुरू कर दें। अब वह युवाओं से अमृतसर में मिल रही थी। इसके बाद बिल्डर ने अपने भाई का मोबाइल नंबर बताया, जिस पर ड्राइवर अनिल ने बात कर बताया कि अभी तक उनकी बच्ची सुरक्षित है।

इलेक्ट्रानिक के पिता ने बताया कि वह रात 12 बजे बेटी की तलाश में जगह-जगह खाक गुडाते फिर रहे हैं। इसके बाद चालक और परिचालक ने बच्ची को बस में सुलाकर रात भर पहरा दिया और सुबह अपने आवास पर ले गए।

पता चला कि इलेक्ट्रानिक 11वीं नॉन मेडिकल का इलेक्ट्रानिक है और अपने दोस्त से मिलने की चाहत में बहादुरगढ़ बस स्टैंड पर अपनी स्क्रैच को ठीक करने के लिए बस में सवार हो गया था। ऑक्सफ़ोर्ड ने किराए पर लेने के लिए अपने एलियंस से पैसे उधार लिए थे।

खटकड़ टोल समिति के अनीश, पूना रेधू कांडला, हरिकेश काब्रचा, राजेश, प्रकाश आदि ने परिचालक अनिल को सम्मानित करते हुए कहा कि वह एक बच्ची को गलत रास्ते से बचाकर ले गया।

पूनम रेधू ने कहा कि एक 16 साल की उम्र में टेलीकॉम कंपनी के संस्थापक और उन्हें गलत रास्ते पर चलने से बचाने के लिए टेलीकॉम कंपनी ने काम किया है।

सभी को परिचालक अनिल से प्रेरणा लेनी चाहिए ताकि अपने बच्चों का भी ध्यान रखा जा सके कि कहीं बच्चा ट्रैक पर न चला जाए। उनका ध्यान रखना चाहिए और उन्हें उत्तम संस्कार देना चाहिए।

 

Latest News: 12th पास की तो निकलपड़ी, NAVY ने निकली VACANCY, SALARY मिलेगी 30000

click here to join our whatsapp group