logo

हरियाणा के 10 एकड़ में अरावली पहाड़ियों की तलहटी में बनने वाली झील

Haryana New Lake: हरियाणा के मानेसर में अरावली पहाड़ियों के किनारे एक पर्यटन स्थल बनने की योजना है। मानेसर नगर निगम के निगमायुक्त अशोक गर्ग ने हाल ही में एसबीआई कार्ड्स के अधिकारियों के साथ पूर्व योजना और समझौता पर चर्चा की। बैठक ने फैसला किया कि एक महीने में अरावली तलहटी और कासन के जोहड़ में एक ईको टूरिज्म हब बनाने का काम शुरू किया जाएगा।
 
 
हरियाणा के 10 एकड़ में अरावली पहाड़ियों की तलहटी में बनने वाली झील

Haryana Update: अजय निराला ने बताया कि एक गैर सरकारी संस्था ग्रामीण विकास ट्रस्ट इस कार्य को कर रही है। इसके तहत पानी को साफ करने के बाद आसपास पौधे लगाने की जरूरत है। पर्यटकों को बोटिंग की सुविधा भी मिलेगी। अरावली से सटे गांव के तालाब को बीच में द्वीप बनाकर झील बनाने की योजना है।

पर्यटकों के लिए यह विशिष्ट होगा
उन्हें बताया गया कि एक्वेरियम और बटरफ्लाई पार्क बनाया जाएगा। झील के आसपास बड़ी संख्या में पेड़, भोजन और पेय पदार्थ के स्टॉल और हरियाणवी संस्कृति पर आधारित प्रदर्शनी कक्ष होंगे, जिससे नौकायन की सुविधा मिलेगी। 4.5 एकड़ भूमि पर झील और इको-पर्यटन केंद्र में जापानी मियावाकी तकनीक के पौधे लगाए जाएंगे, जो अधिक से अधिक जानवरों, पक्षियों, कीड़ों और पतंगों को आश्रय देंगे।


400 एकड़ क्षेत्र में पार्क

मानेसर में अरावली से सटे कसान, खोह, मानेसर और सहारावन गांवों में योजना के तहत 400 एकड़ का जैव विविधता पार्क और लगभग 10 एकड़ की झील बनाई जाएगी। पहले झील का सौंदर्यीकरण किया जाएगा और इसके आसपास एक इको-टूरिज्म हब और जैव विविधता पार्क बनाया जाएगा।
सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों के आठवें पे कमीशन को किया क्लीयर
ईको टूरिज्म सुविधाएं कासन गांव में अरावली के किनारे चार पांच एकड़ की जमीन पर विकसित की जानी हैं, उद्यान अधिकारी अजय निराला ने बताया। झील के पुनरुद्धार और पर्यावरण-पर्यटन के लिए हेरोमोटो कॉर्प और एसबीआई कार्ड पहले 100 और फिर 400 एकड़ के जैव विविधता पार्क की मदद करेंगे। इन सभी कामों को पूरा करने के लिए एक वर्ष का समय है।