logo

जल संकट के बीच दिल्ली जल बोर्ड के 100 टैंकर गायब- काँग्रेस का आरोप

कांग्रेस के अंतरिम दिल्ली प्रमुख देवेंद्र यादव ने कहा कि यह हैरानी की बात है कि डीजेबी ने पानी की कमी से निपटने के लिए टैंकरों की संख्या में वृद्धि नहीं की, जबकि आप 10 साल पहले दिल्लीवासियों को मुफ्त बिजली और पानी देने के वादे के कारण सत्ता में आई थी।
 
delhi water crisis

Delhi Water Crisis: दिल्ली में गहराए जल संकट पर सियासत गर्म है। इस बीच कांग्रेस ने दिल्ली जल बोर्ड में बड़ी गड़बड़ी की ओर इशारा किया है। कांग्रेस के अंतरिम दिल्ली प्रमुख देवेंद्र यादव ने मंगलवार को आरोप लगाया कि दिल्ली जल बोर्ड के 250 पानी के टैंकरों में से कम से कम सौ गायब हो गए हैं। उन्होंने दावा किया कि दिल्ली जल बोर्ड (डीजेबी) के पास गर्मियों के दौरान हमेशा 250 विभागीय टैंकर चालू रहते थे। इस गर्मी में 100 टैंकर गायब हो गए हैं। 

Delhi Water Crisis: जल संकट के बावजूद नहीं बढ़ाए टैंकर

कांग्रेस के अंतरिम दिल्ली प्रमुख देवेंद्र यादव ने कहा कि यह हैरानी की बात है कि डीजेबी ने पानी की कमी से निपटने के लिए टैंकरों की संख्या में वृद्धि नहीं की, जबकि आप 10 साल पहले दिल्लीवासियों को मुफ्त बिजली और पानी देने के वादे के कारण सत्ता में आई थी। डीजेबी के पास 407 टैंकर अनुबंध पर, 541 किराए पर और 250 विभाग के हैं। दिल्ली सरकार पानी की कमी को लेकर आखिरी समय में जागती है क्योंकि डीजेबी पहले से कोई कार्य योजना नहीं बनाती है।

You may also like: Delhi News: दिल्ली में भीषण गर्मी ने तोड़े पिछले सारे रिकॉर्ड, बढ़ी बिजली की डिमांड

अतिरिक्त पानी देने को तैयार नहीं हरियाणा- AAP

पानी के मुद्दे को लेकर लगातार खींचतान का दौर जारी है। दिल्ली सरकार का आरोप है कि मंगलवार को चंडीगढ़ में दिल्ली और हरियाणा के अधिकारियों से बातचीत हुई, लेकिन उसमें कोई समाधान नहीं निकला है। अधिकारियों ने भीषण गर्मी के बीच दिल्ली में बढ़ रही पानी की मांग को ध्यान में रखकर हरियाणा से पानी की मांग रखी, लेकिन हरियाणा ने मौजूदा स्तर से अधिक पानी देने से इनकार कर दिया। 

नई मुसीबत तैयार
वहीं दूसरी ओर दिल्ली में पानी की बढ़ती मांग के बीच अब एक और समस्या खड़ी हो गई है। कई कॉलोनियों की पाइप लाइनों में अंतिम छोर तक पानी नहीं पहुंच पा रहा है, जिससे जलापूर्ति का जिम्मा टैंकरों पर आ गया है। आलम यह है कि दिल्ली जल बोर्ड ने टैंकरों के फेरे बढ़ा दिए हैं। एक हजार टैंकर पहले तीन फेरे लगा रहे थे, जबकि अब पांच फेरे लगा रहे हैं। अधिकारियों का दावा है कि घरों में ज्यादा देर तक मोटर चलाई जा रही हैं, जिससे कॉलोनियों के आखिर तक पानी नहीं पहुंच पा रहा है।

click here to join our whatsapp group